Bin Baat Ke Hi Roothne Ki Aada

Hindi Poetry

-

Bin Baat Ke Hi Roothne Ki Aada

Bin Baat Ke Hi Roothne Ki Aadat Hai
बिन बात के ही रूठने की आदत है,

किसी अपने का साथ पाने की चाहत है,

आप खुश रहें, मेरा क्या है..

मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है।

Get Latest SMS/Poetry in your email address :


Similar hindi poetry